What Are The Things To Be Kept In Mind While Taking Life Insurance

What Are The Things To Be Kept In Mind While Taking Life Insurance

 

जीवन बीमा खरीदते वक्त कई प्रकार की ऐसी बातें हैं। जिन्हें मुख्य रूप से ध्यान में रखना जरूरी होता है। जीवन बीमा हर कोई व्यक्ति करना चाहता है। लेकिन उनको खरीदने के लिए कई प्रकार के नियम व शर्तों का पालन भी करना जरूरी है। पॉलिसी धारक भी उन निश्चित मापदंड को पूरा करना आवश्यक होता है। अन्यथा आईआरडीए के अनुसार पॉलिसी धारक जीवन बीमा खरीदने के योग्य नहीं होगा।

Things To Keep In Mind While Buying Life Insurance

  • जीवन बीमा खरीदते वक्त जीवन बीमा कंपनी की सभी पॉलिसियों के बारे में जानकारी लें और उनको अभिकर्ता या ब्रांच कार्यकर्ता द्वारा अच्छे से समझ ले।
  • पॉलिसी खरीदते वक्त बीमा धारक और पॉलिसी कंपनी के मध्य कई प्रकार के मापदंडों के आधार पर नियम व शर्तों काश आजा किया जाता है।जिसके आधार पर ही जीवन बीमा पॉलिसी के फायदे प्राप्त होते हैं उन्हें पढ़ना जरूरी है।
  • जीवन बीमा खरीदने से पहले आप अपने income के अनुसार की बीमा पॉलिसी का चयन करें। ऐसे नहीं कि एजेंट के कहने पर बड़ी पॉलिसी खरीद लें और उसके पश्चात आपको प्रीमियम भरने में दिक्कत आ सकती है।
  • पॉलिसी खरीदने से पहले पॉलिसी की नियम व शर्तों को अच्छे से जान लें और पॉलिसी से संबंधित हर प्रकार के प्रश्न ब्रांच अधिकारी या अभिकर्ता से अवश्य करें।
  •  पूरी नियम शर्ते पढ़कर अपने आप को संतुष्ट कर ले और उसके पश्चात ही पालिसी का प्रस्तावक फार्म पर  हस्ताक्षर करें और इस फार्म को भरें।
  • पॉलिसी को लेकर हर प्रकार की बातचीत अभिकर्ता के साथ हमेशा करें जैसे परिपक्वता राशि,दुर्घटना हितलाभ, इनकम टैक्स बेनिफिट, दस्तावेज, प्रीमियम इत्यादि।
  • पॉलिसी को खरीदते वक्त पॉलिसी में उपस्थित अन्य प्रकार के सभी फायदों के बारे में जिक्र कर ले।
  • प्रस्तावक अपने एप्लीकेशन फॉर्म को खुद करें और एप्लीकेशन फॉर्म में लिखी हुई सभी नियम व शर्तों को पढ़कर उचित तरीके से भरें।
  • अगर किसी कारणों की वजह से पॉलिसी का प्रीमियम नहीं भर पाते हैं तो किन किन परिस्थितियों में पैसा वापस मिलता है इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त कर लें।
  • जीवन बीमा में कई प्रकार के प्लान उपलब्ध है। जैसे बंदोबस्ती बीमा, मनी बैक बीमा,टर्म बीमा इत्यादि। आपको जो प्लान ज्यादा उचित लगे उस प्लान को खरीदें।
  • बोली थी खरीदते वक्त अभिकर्ता से अन्य सभी भाइयों का जिक्र करते हुए दुर्घटना हितलाभ अवश्य खरीदें।
  • गुणवत्तापूर्ण तथा समयबद्ध सेवा देने पर बल दें। मध्यस्थ द्वारा आपसे व्यवहार करते समय पूर्व-बिक्री की अवधि के दौरान लिए गए टर्नअराउंड टाइम (प्रतिवर्तन  काल) द्वारा आप इसका अनुमान लगा सकते हैं।
  • जब आप प्रीमियम का भुगतान किसी मध्यस्थ के द्वारा करें, तो जाँच लें कि क्या वह बीमा कंपनी की ओर से ऐसा करने के लिए अधिकृत है, तथा उसी समय एक उचित हस्ताक्षरित रसीद देने के लिए आग्रह करें।
  • दावा करने से संबंधित दस्तावेजों तथा प्रक्रियाओं के बारे में मध्यस्थ से प्रश्न पूछें, और उन्हें भलीभाँति समझ लें। किसी दावे की स्थिति में, ऐसी अन्य एजेंसियाँ भी हो सकती हैं जिनको आप द्वारा बीमा कंपनी के अलावा सूचित किया जाना होता है। आपकी ओर से कौन सी कार्यवाहियाँ अपेक्षित होंगी, इनके बारे में पूरे विवरण प्राप्त कर लें।

Leave a Comment